当前位置: इलेक्ट्रॉनिक हॉकी खेल > हाथ में इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खे > हाथ में इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल 80 के दशक Lung Infection and Corona in Hindi: फाइब्रोसिस, लंग इंफेक्श
随机内容

हाथ में इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल 80 के दशक Lung Infection and Corona in Hindi: फाइब्रोसिस, लंग इंफेक्श

时间:2020-09-16 12:24 来源:इलेक्ट्रॉनिक हॉकी खेल 点击:88
lung-transplant of covid-19 patient in chennai in hindi एशिया में पहली बार चेन्नई में कोविड-19 पॉजिटिव रोगी के फेफड़े प्रत्यारोपित।© Shutterstock.

Lung Infection and Corona: पहली बार एशिया में एक 48 वर्षीय कोरोना से पॉजिटिव मरीज के फेफेड़े का सफल प्रत्यारोपण (Lung transplant) किया गया है। कोरोना पॉजिटिव (Coronavirus patient) इस मरीज के फेफड़े गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त थेहाथ में इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल 80 के दशक, जिसे चेन्नई के एक हॉस्पिटल में डॉक्टर्स की एक टीम ने सफलतापूर्वक बदल दिया है। यह कोविड मरीज दिल्ली का रहने वाला है। इस प्राइवेट हॉस्पिटल ने अपने बयान में कहा है कि यह एशिया का ऐसा पहला मामला हैहाथ में इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल 80 के दशक, जिसमें एक कोरोना से संक्रमित मरीज (Covid-19) के लंग्स को ट्रांसप्लांट (Lung transplant) करने में सफलता हासिल हुई है। Also Read - कितने अलग होते हैं फ्लू और कोविड-19 के लक्षण? जानें दोनों के बीच का अंतर

लॉकडाउन के बाद हॉस्पिटल में किया गया दूसरा लंग ट्रांसप्लांट

ऐसा भी कहा जा रहा है कि यह लॉकडाउन के बाद से हॉस्पिटल में किया गया दूसरा फेफड़ा प्रत्यारोपण (Lung transplant) है। अस्पताल ने कहा कि इस मरीज के फेफड़ों में गंभीर संक्रमण (Lung Infection) था। कोविड -19 से संबंधित फाइब्रोसिस (Fibrosis) के कारण उसके फेफड़े गंभीर रूप से क्षतिग्रस्त हो गए थे। Also Read - स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहाहाथ में इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल 80 के दशक, कोविड रोगियों के लिए मेडिकल ऑक्सीजन की कोई कमी नहीं

फेफड़े का एक छोटा हिस्सा ही कर रहा था काम

एमजीएम हेल्थकेयर के अनुसारहाथ में इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल 80 के दशक, मरीज का कोरोनावायरस का टेस्ट (Coronavirus test) 8 जुलाई को हुआ थाहाथ में इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल 80 के दशक, इलेक्ट्रॉनिक टेनिस खेल जिसमें वह पॉजिटिव पाया गया था। साथ ही उसके फेफड़े बुरी तरह से खराब हो चुके थे, जिसके कारण छोटा सा हिस्सा ही काम कर रहा था। जब उसकी कंडीशन खराब होने लगी तो उसे वेंटिलेटर सपोर्ट पर रखा गया। उसकी स्थिति जब ज्यादा खराब हो गई तो उसे 20 जुलाई को एयरलिफ्ट करके चेन्नई ले जाया गया। Also Read - Covid-19 Live Updates: भारत में कोरोना के मरीजों की संख्या हुई 49,30,236, अब तक 80,हाथ में इलेक्ट्रॉनिक फुटबॉल खेल 80 के दशक776 लोगों की मौत

चेन्नई में एक महीने से अधिक समय तक उसे ईसीएमओ सपोर्ट पर रखा गया। बाद में डॉक्टर्स ने उसके फेफड़ों का प्रत्यारोपण (Lung Infection and Corona) करने का फैसला किया। 27 अगस्त को उसके फेफड़ों का सफल ट्रांसप्लांट किया गया, जिसका नेतृत्व कार्डियक साइंसेज के अध्यक्ष और निदेशक डॉ.के.आर. बालकृष्णन ने किया। फिलहाल मरीज आईसीयू में है और प्रत्यारोपित किए गए फेफड़े भी सही तरह से अपना काम कर रहे हैं।

क्या टॉयलेट पाइप से घरों में पहुंच सकता है कोरोना? शोध में हुआ यह चौंकाने वाला खुलासा

पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के स्वास्थ्य में थोड़ा सुधार, फेफड़ों में संक्रमण के बाद बिगड़ गई थी तबीयत

Published : August 29, 2020 6:00 pm | Updated:August 29, 2020 7:02 pm Read Disclaimer Comments - Join the Discussion स्पर्म काउंट और गुर्दे की पथरी को दूर करे कुल्थी की दाल, जानें इसके और भी फायदेस्पर्म काउंट और गुर्दे की पथरी को दूर करे कुल्थी की दाल, जानें इसके और भी फायदे स्पर्म काउंट और गुर्दे की पथरी को दूर करे कुल्थी की दाल, जानें इसके और भी फायदे यूरिया साईकिल डिस्आर्डर के लक्षण हैं बच्चों का सुस्त रहना और देर तक सोना, जानें कितना खतरनाक है ये रोगयूरिया साईकिल डिस्आर्डर के लक्षण हैं बच्चों का सुस्त रहना और देर तक सोना, जानें कितना खतरनाक है ये रोग यूरिया साईकिल डिस्आर्डर के लक्षण हैं बच्चों का सुस्त रहना और देर तक सोना, जानें कितना खतरनाक है ये रोग ,,
------分隔线----------------------------

由上内容,由इलेक्ट्रॉनिक हॉकी खेल收集并整理。